Kalpana Chawla Biography In Hindi – कल्पना चावला का जीवन परिचय

कल्पना चावला एक बहुत ही प्रसिद्ध अंतरिक्ष यात्री थीं जिस को सभी लोग जानते थे। कल्पना को अपने जीवन मे बहुत सारी मुश्किलों का सामना करना पड़ा है। इस पोस्ट में हम Kalpana Chawla Biography In Hindi पढ़ेंगे और  कल्पना चावला का जीवन परिचय के बारे में बात करने वाले हैं।

नामकल्पना चावला
जन्म1 जुलाई 1961
जन्म स्थानकरनाल
मृत्यु1 फरवरी 2003
पेशाइंजिनियर,टेक्नोलॉजिस्ट
लम्बाई5’7”
पिता का नामबनारसी लाल चावला
माता का नामसंज्योथी चावला
पति का नाम
जीन पिएरे हैरिसन


कल्पना अंतरिक्ष मे जाने वाली पहली भारतीय महिला थीं। वह भारतीय लोगों के लिए प्रेरणा स्त्रोत थी। बचपन से ही कल्पना को अंतरिक्ष के बारे में जानने की बहुत दिलचस्पी थी।


वह अपने पिता के साथ भी भी अंतरिक्ष के बारे में बातें करती रहती थी। उसने अंतरिक्ष मे जाने का अपना सपना पूरा किया था। कल्पना की मौत उसके Spaceship की दुर्घटना की वजह से हुई थी। अब हम कल्पना के जीवन परिचय का बारे में जानते हैं।

Kalpana Chawla Biography In Hindi (कल्पना चावला की सफलता की कहानी)

Source:- airandspace.si.edu

कल्पना चावला का जन्म 1 जुलाई 1961 को पंजाब के करनाल में हुआ था। उनके पिता का नाम Banarsi Lal Chawla और माँ का नाम Sanyjothi Lal Chawla. कल्पना अपने भाई बहनों में सबसे छोटी बेटी थी।

कल्पना के पिता एक बहुत ही मेहनती आदमी थे। वह 1947 में भारत और पाकिस्तान के विभाजन के समय मुल्तान से भारत मे आये थे (Kalpana Chawla Biography In Hindi)। उनको भी अपनी ज़िंदगी में काफी कठिनाईयों का सामना करना पड़ा।


कल्पना को बचपन से ही पढ़ने और लिखने से बहुत लगाव था। कल्पना को लोग प्यार से मोंटो कहते थे। जब कल्पना की Aunty उसे स्कूल में Admission दिलवाने गयी थी तो उन्होंने 3 नामों का सुझाव दिया और उसने तीनों में से कल्पना नाम चुना

The quickest way may not necessarily be the best.

~Kalpana Chawla

कल्पना अपने स्कूल में अच्छा पढ़ती थी। वह फर्स्ट या सेकंड तो नहीं आती थी लेकिन वह Top 5 में जरूर आती थी। उसे विज्ञान से बहुत लगाव था। एक दिन कल्पना ने एक Magazine पर Mars ग्रह की तस्वीर देखी, तभी उसने ये तय कर लिया था कि वो Aerospace में अपना करियर बनाएगी।


पर यह कल्पना के लिए इतना आसान नहीं था क्योंकि विज्ञान अभी इतना develop नहीं हुआ था। कल्पना ने Punjab Engineering College से डिग्री हासिल की। उसके बाद वो 1982 में अमेरिका Shift हो गयी जहाँ पर Aerospace Engineering from University of Texas से उसने डिग्री प्राप्त की।


1986 में उसने अपनी PhD की पढ़ाई भी पूरी कर ली। कल्पना ने 1988 में NASA के लिए काम करना शुरू कर दिया और 1991 में उसको अमेरिका की नागरिकता मिल गयी (Kalpana Chawla Biography In Hindi)। वो अब नया इतिहास रचने के लिए तैयार थी ताकि कल्पना चावला का जीवन परिचय लिखा जा सके।


1991 में उसने NASA Astronaut Corps के लिए Apply किया और वो इस के लिए Select भी हो गयी। 1996 में कल्पना चावला ने अपनी पहली उड़ान भरी। आप कल्पना चावला का जीवन परिचय पढ़ रहे हैं।

कल्पना चावला का अंतरिक्ष मिशन 2 मई 1997 को शुरू हुआ। कल्पना चावला अंतरिक्ष मे सफर करने वाली पहली भररतीय महिला बन गयी जो भारत के लोगों के लिए बहुत गर्व की बात थी। चावला ने अपने पहले अंतरिक्ष मिशन में करीब 10.4 Million Miles का सफर किया जो 372 घंटे लंबा था।


कहानी के दूसरे छोर की बात करें तो Columbia Flight ने अपनी पहली उड़ान 1981 में भरी थी और ये 2003 तक 27 बार उड़ चुकी थी। इस वजह से Flight की हालत बेहद खराब हो चुकी थी (Kalpana Chawla Biography In Hindi)।


हालत खराब होने के कारण 1986 में फ्लाइट क्रैश हई और उसमें कल्पना चावला समेत 7 लोगों की मौत हो गयी। इससे सीख लेते हुए नासा ने Shuttles में काफी सुधार किये। क्योंकि विज्ञान उस समय प्रारंभ पर था इस लिए ये NASA के लिए भी नई सीख थी।

कल्पना चावला के साथ अंतरिक्ष मे क्या हुआ

2003 में सारा देश कल्पना की वापसी का इंतजार कर रहा था। पर फरवरी 2003 में ऐसी खबर आई कि सब हैरान हो गए। 7 यात्रियों ने NASA को Hole के बारे में नही बताया जिस की वजह से उन्हें अपनी जान गवानी पड़ी

कल्पना चावला का वाहन 63 किलोमीटर की ऊँचाई पर क्रैश होने  की सूचना थी, जिससे कल्पना की मृत्यु हो गई।  चावला के साथ, 6 अन्य अंतरिक्ष यात्री भी मारे गए थे


हालांकि बाद में यह खबर भी आई कि कल्पना की मौत Flight में हुई थी। उस समय उसकी उम्र 41 साल की थी। पूरे देश को कल्पना पर गर्व था लेकिन यह खबर सुनकर सभी हैरान थे (Kalpana Chawla Biography In Hindi)।

कल्पना चावला की उपलब्धियां (Achievements)

कल्पना चावला को कांग्रेस के अंतरिक्ष पदक, नासा के अंतरिक्ष उड़ान पदक और नासा के विशिष्ट सेवा पदक से सम्मानित किया गया है।


पंजाब इंजीनियरिंग कॉलेज में गर्ल्स हॉस्टल का नाम कल्पना चावला गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज के नाम पर रखा गया था जहाँ कल्पना चावला का जन्म हुआ था (Kalpana Chawla Biography In Hindi)।


पर इन सब के अलावा कल्पना की सबसे बड़ी प्राप्ति इस देश के लोगों का सम्मान हासिल करना है। उस ने बहुत सारे अवार्ड्स भी प्राप्त किये जैसे NASA ने कल्पना चावला को Super Computer Dedicate किया था।

कल्पना चावला के बारे में कुछ रोचक तथ्य

  1. कल्पना चावला का स्कूल एडमिशन तक कोई भी नाम नहीं था, उसे लोग उसके निकनेम मोंटो से बुलाते थे। उसका नाम कल्पना चावला उसकी स्कूल एडमिशन के समय रखा गया था।
  2. कल्पना के पिता एक बहुत ही मेहनती व्यक्ति थे। पहले वह एक किराने की दुकान चलाते थे और फिर उन्होंने खुद से इंजीनियरिंग सीखी।
  3. कल्पना चावला के पिता उसे डॉक्टर या अध्यापिका बनाना चाहते थे लेकिन उसकी दिलचस्पी अंतरिक्ष मे थी। उसने इंजीनियर बनने की इच्छा अपने पिता से ज़ाहिर की थी।
  4. कल्पना चावला अंतरिक्ष मे यात्रा करने वाली पहली भारतीय महिला थी और भारतीय मूल की दूसरी व्यक्ति थी। इससे पहले राकेश शर्मा अंतरिक्ष की यात्रा कर चुके थे।
  5. बचपन में कल्पना चावला एक बहुत ही Intelligent लड़की थी। वो खुद से ही भूगोल का नक्शा बना लेती थी और क्लास में Top 5 में जरूर होती थी।

आखरी शब्द

कल्पना चावला का जीवन परिचय लाखों भारतीय महिलाओं के लिए एक प्रेरणा स्त्रोत है। एक समय था जब Women Empowerment शुरू भी नहीं हुआ था तब कल्पना चावला ने अपने सपने पूरे किये और सफलता प्राप्त की (Kalpana Chawla Biography In Hindi)।


Women Empowerment में कल्पना चावला का बहुत बड़ा योगदान रहा है। एक छोटे शहर से होने के बावजूद उसने भारत का नाम रोशन किया। बहुत सारी महिलाएं कल्पना चावला को प्रेरणा स्त्रोत मानती हैं।


कल्पना चावला ने इतनी मुश्किल समय मे सफलता हासिल की उसके Family के Support की वजह से। आज भी न जाने कितनी महिलाएं हैं जो रोक टोक की वजह से अपना टैलेंट नहीं दिखा पाती।


इससे हमें पता चलता है हमने कितना सारा टैलेंट वेस्ट कर दिया है। मुझे उम्मीद है आप को Kalpana Chawla Biography In Hindi पढ़ के प्रेरणा मिली होगी और कल्पना चावला का जीवन परिचय जानकर अच्छा लगा होगा।

guru ji

नमश्कार दोस्तो!

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *